मासिक पीरियड के कितने दिन बाद संबध बनाना चाहिए। SEX AFTER MENSTRUAL CYCLE

नमस्कार दोस्तों, आपको तो पता ही है की भारत में  सेक्स सम्बंधित कितनी अफ़वाए है, यहाँ के लोगो को सेक्स के बारे मैं इतना खास कुछ पता नहीं है। इसकी वजह से सब लोगो को बहुत तकलीफ होती है इसीलिए हम आपके लिए कुछ जानकारी लाए है ,हमें उम्मीद है की ये जानकारी आपको सौं प्रतिशत फायदा ही देगी। तो चलिए देखते है वो जानकारी क्या है। 

 प्रेगनेंसी के बारे में जानकारी ना होने की वजह से महिलाओं को प्रेग्नेंट होते समय घबराहट होती है लेकिन इस विषय पर थोड़ी सी जानकारी से आपके मन में उठने वाले सभी सवाल शांत हो जाएंगे। 

पीरियड्स होता क्या है ? WHAT IS MENSTRUAL CYCLE :

दोस्तों पीरियड्स के बारे मैं हमारे यहाँ बोहोत अन्धविश्वास है,पीरियड्स एक ऐसी प्रक्रिया है जो की महिलओं को हर महीने होती है और इसका एक निश्चित समत फिक्स होता है लेकिन किसी किसी का ये समय से आगे पीछे भी आ जाता है| आपको बता दे की सेक्स सम्बन्ध के ज़रिये पुरुष का स्पर्म योनीमें प्रवेश कर जाता है और महिला के अंडाशय से निकलने वाले एग को फर्टिलाइज़ करता है और जब ये एग फर्टिलाइज़ हो जाता है तब गर्भ धारण हो जाता है| पीरियड्स का आना यानी युवा अवस्था का दस्तक देना| जैसे ही युवा अवस्था शुरू होती है, वैसे ही जननांग (Reproductive Organs) विकसित होने लगते हैं| यही वो दौर होता है जब बच्चों के विभिन्न हिस्सों में बाल आने शुरू हो जाते हैं| जहाँ एक तरफ युवा अवस्था में लड़कों के testis में sperm बनना शुरू हो जाते हैं| तो वहीं दूसरी तरफ जब लड़कियां युवा अवस्था की देहलीज़ पर पहुँचती हैं तो उनके शरीर में कुछ बदलाव होते हैं जिनमें से एक हैं periods| ये वही समय होता है जब कोई लड़की गर्भधारण के लिए पूरी तरह से तैयार हो जाती है| जब लड़कियों को पीरियड्स होते हैं तो उनकी योनि से खून बहने (Bleeding) लगता है। 

आजकल का ज़माना बहुत ही मॉडर्न हो गया है और ज़्यादातर महिलाएं शादी के बाद कुछ दिनों तक बच्चा नही चाहती खासतौर से वह महिलाएं जो शादी के तुरंत बाद बच्चे नहीं चाहती हैं, वह सेक्स के दौरान बहुत सजग रहती हैं,क्योंकि उन्हें हमेशा प्रेगनेंसी का खतरा बना रहता है।

पीरियड या फिर माहवारी के बाद गर्भधारण या फिर प्रेगनेंसी का सही समय कौन सा होता है। WHAT IS THE RIGHT TIME OF SEX AFTER MENSTRUAL CYCLE:

आइए जानते हैं,

पीरियड के पहले दिन से 10 दिन के बीच में यदि आप रिलेशन बनाते हैं तब प्रेगनेंसी यानी कि गर्भधारण कि संभावना बहुत ही कम होते हैं ।

यदि आप पीरियड या फिर महावारी के 11 से 20 दिन के भीतर फिजिकल रिलेशन बनाते हैं तब आपके प्रेगनेंसी या फिर गर्भ धारण की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती हैं । आपको इन दिनों में ही फिजिकल रिलेशन बनाना चाहिए ।

मासिक धर्म या फिर एमसी के 21 से 30 दिन के भीतर यदि फिजिकल रिलेशन बनाते हैं तो प्रेगनेंसी यानी कि गर्भधारण के चांस बहुत ही कम रहते हैं ।

आपको पीरियड्स के कितने दिन बाद सम्बन्ध बनाने चाहिए। SEX AFTER MC CYCLE :

(यह article सिर्फ जानकारी के लिए बनाया गया है इसे हमारी राय न समझे अगर आपको कुछ तकलीफ है तो आप तुरंत डॉक्टर की सलाह ले ,ये सिर्फ जानकारी है। )

पीरियड के बाद संबंध बनाने का सही दिन मासिक चक्र के 10 दिन बाद का होता है । 10 से 20 दिन के भीतर संबंध बना सकते हो । यदि आप प्रेग्नेंट होना चाहते हो और बच्चा चाहते हो तो ।एमसी आने के यानी कि पीरियड या मासिक चक्कर आने के कितने दिन बाद शारीरिक संबंध बनाने चाहिए । चलिए अब हम आपको बता देते हैं एमसी पीरियड आने के 7 दिन बाद शारीरिक संबंध बना सकते हो । जिस दिन पीरियड आता है उस दिन से लेकर के अगले 7 दिनों तक शारीरिक संबंध नहीं बनाने के बाद भी गर्भ धारण नहीं होगा , क्योंकि इस अवधि के दौरान प्रेगनेंसी नहीं होती है और ना ही बच्चा गर्भ में ठहरता है ।

इस वीडियो मैं अधिक जानकारी आप देख सकते है। 



पीरियड्स कितने दिनों के होते है। DAYS OF MENSTRUAL CYCLE :

 पीरियड्स का औसत निकाले तो  पीरियड 28 दिन के बाद में आ जाता है । पीरियड ( period ) कम से कम 21 दिनों के अंदर और अधिक से अधिक 40 दिनों के अंदर आ जाता है इससे ज्यादा  पीरियड लेट नहीं होता है । पीरियड या मासिक धर्म ज्यादा से ज्यादा 11-12 दिन तक लेट हो सकता है ।

जिस भी महिला और लड़की के पीरियड्स (period) आना शुरू हो जाते हैं उसके बाद में पहला पीरियड आने के 21 दिन बाद से लेकर के 40 दिन के भीतर दूसरा पीरियड आ जाता है । सामान्यतः एक स्वस्थ महिला को 28 दिन के बाद  पीरियड आता है ।

किसी भी लड़की या महिला का जिंदगी का पहला  पीरियड 10 से 14 साल की उम्र में आता है । 10 से 14 साल की उम्र के बाद हर लड़की या महिला को हर महीने मासिक धर्म या पीरियड 28 दिनों की समय अवधि के पश्चात आता है ।
मासिक धर्म या पीरियड कम से कम 21 दिनों के बाद आता है और ज्यादा से ज्यादा 40 दिन तक आ सकता है । उसके बाद पीरियड नहीं आता है तब डॉक्टर से संपर्क जरूर करें ।

पीरियड्स देर से आने के क्या कारण हो सकते है। WHAT IS THE REASON BEHIND OF LATE PERIODS :



पिरिएड्स न आने का कारण सिर्फ गर्भधारणा नहीं होती ,इसके बोहोत से कारण हो सकते है ,तो चलिए देखते है वो क्या कारण है ,

1. तणाव के कारण। BECAUSE OF STRESS :

आज कल की इस भागदौड़ भरी जिंदगी में बहुत से लोगों को stress की समस्या होने लगी है| इनमें ज्यादातर युवतियां और महिलाएं शामिल हैं| Experts का मानना है की जब भी किसी महिला को stress होता है यानी किसी बात की चिंता घेर लेती है तो इसका असर सबसे पहले उसके hormones पर पड़ता है| स्ट्रेस का असर महिलाओं के मस्तिष्क और हाइपोथैलेमस के हिस्से पर भी बहुत बुरा पड़ता है और उसे नुक्सान पहुंचा सकता है| ये वो हिस्सा है जिसके कारण महिलाओं के periods regulate होते हैं| ज्यादा stress भी एक कारण हो सकता है जिससे महिलाओं के periods आने में देरी होती है। 

2.मोटापा  होने के कारण। BECAUSE OF OBESITY :

 अगर किसी युवती या महिला को समय पर पीरियड्स  नहीं आते हैं या फिर periods आने रुक गए हो तो इसका एक कारण उनका मोटापा भी हो सकता है| न केवल पीरियड्स, बल्कि मोटापे से महिलाओं को और भी कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है| मोटापे के कारण महिलाओं के शरीर में बहुत से ऐसे hormonal changes होते हैं जिनकी वजह से उनके periods आने में देरी होती है| इसलिए महिलाओं को चाहिए की वो एक proper time पर healthy diet लें और साथ ही एक healthy lifestyle को भी follow करें| जैसे सुबह उठकर walk पर जाएं, yoga करें और exercise करें तो इससे उनके पीरियड्स रेगुलर हो जाएंगे।

3.गर्भनिरोधक गोलियां। ORAL CONTRACEPTIVES :

 ऐसी बहुत सी महिलाएं हैं जो इस डर से की कहीं संबंध बनाने के बाद वो pregnant न हो जाएं वो oral contraceptives यानी कि गर्भ निरोधक गोलियों का प्रयोग करती हैं| इन्हें ही birth controlling pills भी कह दिया जाता है| इसके कारण भी periods आने में या तो देरी होती है या फिर periods रुक जाते हैं| इन दवाइयों में estrogen और progestin नाम के hormone होते हैं जो egg को reveal होने से रोकने का काम करते हैं| यकीन मानिए आने वाले कुछ महीनों में इसका असर महिलाओं को दिखने लगता है| इसलिए बेहतर यही होगा की महिलाएं या युवतियां ऐसी दवाओं का प्रयोग कम से कम करें।

4.पोलिसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम। POLYCYSTIC OVARIAN SYNDROME :

ये महिलाओं में होने वाली एक ऐसी अवस्था है जो उनके irregular periods होने या पीरियड्स रुकने का कारण बन सकती है| शायद बहुत से लोग ये नहीं जानते होंगे की ऐसी अवस्था में महिलाओं में androgen या जिसे हम पुरुष hormone भी कहते हैं उसकी मात्रा अधिक हो जाती है|

इसी कारण महिलाओं में hormonal balance नहीं रह पाता है और ovary से egg निकलने की प्रक्रिया रुक जाती है| इसलिए भी महिलाओं का मासिक धर्म समय पर आना संभव नहीं हो पाता।

5.मोनोपोज़। MONOPAUSE :

जब किसी महिला के आख़री पीरियड्स  होते हैं तो उसे English में मोनोपौसे  कहा जाता है। मेनोपॉज के पहले पेरिमेनोपॉज की स्थिति आती है और तब से ही महिलाओं को डॉक्टर के संपर्क में रहना चाहिए। यदि महिला लगभग 40 की उम्र की है, तो मासिक धर्म की अवधि कम या ज्यादा हो सकती है, खून का बहाव (बहाव) हल्का या ज्यादा हो सकता है और 45-51 की उम्र आते-आते पीरियड्स बंद हो जाते हैं।
यह आपने देखे कुछ कारण। 

रुका हुआ पीरियड लाने की दवा। MEDICINE TO BRING ABOUT A STOPPED PERIOD :

Primount  N
          (इस दवा का हम सिर्फ माहिती देने के लिए इस्तेमाल कर रहे है दूसरा कोई हेतु नहीं है।)
अब हम आपको बताने जा रहे हैं रुका हुआ पीरियड लाने की दवा का नाम  बहुत सी महिलाओं ने Internet पर रुका हुआ पीरियड लाने की दवा ka name सर्च किया है| इसमें सबसे पहली दवा जो है उसका नाम है Primount  N| ये दवा आपको बड़ी ही आसानी से आपकी अपनी दुकान amazon पर मिल जाएगी| हम इसका लिंक आपको इस article में दे देंगे| आप चाहें तो उसके जरिए सीधा इस दवा  को,AMAZON  से ले सकते हैं| आइए जानते हैं की ये किस काम आती है। 
जब किसी महिला का मासिक धर्म यानी की पीरियड्स अचानक रुक जाते हैं या समय से पहले ही पीरियड्स आने बंद हो जाते हैं तब इस tablet का इस्तेमाल किया जा सकता है|

या फिर आप इसका इस्तेमाल पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द को कम करने के लिए भी कर सकती हैं। इतना ही नहीं, अगर कोई महिला गर्भधारण से बचना चाहती है तो भी वो इस टेबलेट का use कर सकती है|
इस दवा को खाने से प्रजनन क्षमता को भी काफी हद तक बढ़ावा मिलता है।

गलती से प्रेगनेंट हुए तो हमें क्या करना चाहिए। UNWANRED PREGNANCY :

देखिये युवा अवस्था मैं सेक्स करने का दिल किसका नहीं करता ,सभी लड़को और लड़कियों का भी  करता है। इस वजह से गलती से कई बार लड़कियां प्रेग्नेंट हो जाती है। इस हालत मैं एक तो लड़कियां दर जाती है ,और उसपर उन्हें कोई जानकारी नहीं होती है की क्या करे ,वैसे तो गर्भपात करना हमारे यहाँ गैर क़ानूनी मन जाता है ,लेकिन अगर आप गलती से प्रेग्नेंट हो जाती है तो गर्भपात कर सकती है,इसके लिए केवल पुरुष की जन्म,अनुमति की जरुरत होती है। लेकिन अगर कोई पुरुष यानि पति नहीं होता तो उसके फॅमिली मैं से किसीकी (GARDIAN ) तो अनुमति होनी जरुरी होती है। 

कैसे पता करे की आप पप्रेगनेंट है।  HOW TO KNOW YOU ARE PREGNANT :



अगर आपका पीरियड मिस हो जाता है| यानी की जिस तारीख को आपका पीरियड  आना चाहिए था उस तारीख  पर नहीं आता है| या उस डेट के एक हफ्ते तक भी आपका पीरियड नहीं आता है तो आप मेडिकल  से PREGA NEWS  लाइए जो आपको 50 rs में मिल जाएगी|

आप इस टेस्ट को घर लाकर कीजिए| अगर आपका Test negative आता है तो आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है आप pregnent नहीं हैं| लेकिन अगर आपका test positive आता है तो इसका मतलब है की आपकी pregnancy है| अब आपको इस pregnancy को abort करने के लिए कोई action लेना होगा| 

अगर आपको pregnancy का early stage में ही पता चल जाता है तो आपके पास उसे abort करने के लिए गोलियों का भी option होता है| आप MTP किट का सहारा ले सकते हैं| उससे आपका abortion समय रहते ही हो जाएगा| 

आपको अगर 49 days के बाद pregnancy का पता चलता है तो आपके पास एक ही option बचता है और वो है hospital जाकर DNC करवाने का| DNC का मतलब है Dilatation and curettage| यानी कुछ metalic instruments की help से डॉक्टर  खुद ही आपके यूट्रस को पूरी तरह से खाली  कर देंगे। 

दोस्तों ये थी कुछ जानकारी आपको कैसी लगी जरूर बताना निचे comment करके। धन्यवाद। 



2 Comments

Previous Post Next Post